मांगो को लेकर 22 अगस्त को बैंककर्मियों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल वन्य जीवों के प्रजनन हेतु माकूल है नाहरगढ़ बॉयोलॉजिकल पार्क कानून व्यवस्था को मुद्दा बनाकर कहा, भाजपा सरकार में संगठित तरीके से हो रहा अपराध बार्सिलोना में मौंत बनकर दौड़ी वैन, दो की मौत उदयपुर में बनेगा विश्वस्तरीय बर्ड पार्क, होगा पर्यटन एवं शोध के केन्द्र के रूप में विकसित मलाला को ऑक्‍सफोर्ड विश्वविद्यालय में मिला दाखिला वैज्ञानिकों ने पौधे से बनाया पोलियो वायरस को खत्म करने का टीका प्रधानमंत्री ने नीति आयोग द्वारा अयोजित “चैंपियंस ऑफ़ चेंज” पहल पर युवा उद्यमियों को संबोधित किया राजस्थान डिजिफेस्ट कोटा-2017 शुरू, दिखा आईटी प्रतिभाओं का महाकुम्भ अफस्पा के खिलाफ 16 साल जंग करने वाली ने रचाया विवाह जयपुर में ऑनलाइन होंगे सभी 151 वाहन प्रदूषण जांच केन्द्र सुप्रीम कोर्ट में CBI का जवाब अगले हफ्ते: राजीव गांधी हत्याकांड हिजबुल मुजाहिदीन को अमेरिका ने विदेशी आतंकवादी संगठन किया घोषित, पाकिस्तान है नाराज शरीफ और उसके बेटों के खिलाफ भ्रष्टाचार की जांच होगी, समन भेजा बाइक सवार बदमाशों ने दिन दहाड़े युवती की गोली मारकर हत्या, आरोपी फरार पद्म पुरस्कारों के लिए अब होंगे ऑनलाइन आवेदन, नहीं चलेगी कोई सिफारिश: PM मोदी जब तक किसान खुशहाल नहीं होगा, नये भारत का निर्माण नहीं होगा : राजनाथ सिंह मेरी सहमति के बिना कोरियाई प्रायद्वीप में युद्ध नहीं होगा : मून ममता बनर्जी की अकड़ कायम, TMC ने मारी निकाय चुनावों में बाजी नौजवान के रफ्तार का जुनून और बाइक की इंजन की गड़गड़हाट उसका संगीत
एमसीडी फंड पर चर्चा के लिए केजरीवाल को भाजपा की चुनौती
sanjeevnitoday.com | Wednesday, January 11, 2017 | 07:10:50 PM
1 of 1

नई दिल्ली। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने नगर निगमों को अपेक्षित फंड के मुद्दे और दिल्ली में पिछले दो वर्षों के दौरान विकास कार्यों की उपेक्षा किये जाने पर सार्वजनिक चर्चा के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को चुनौती दी है। मनोज तिवारी ने बुधवार को कहा कि दिल्ली सरकार के अभिलेखों के अनुसार पिछले 2 वर्षों में विकास कार्यों पर व्यय में कमी आई है| केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के नगर निगमों के साथ राजस्व के बंटवारे पर चौथे दिल्ली वित्त आयोग की सिफारिशों को जान-बूझकर रोक रखा है। इसका असल मकसद निगमों में भाजपा नेतृत्व को बदनाम करना है।
 तिवारी ने कहा कि दिल्ली सरकार यह दावा करती है कि उसने नगर निगमों को अधिक धन का आवंटन किया है किन्तु सच्चाई यह है कि उन्हें आवंटित धन चौथे वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार उन्हें मिल सकने वाले खर्च का 50 प्रतिशत भी नहीं है। उन्होंने कहा कि पूर्वी निगम का वेतन बिल ही 1600 करोड़ रुपये का है जबकि उसका कुल राजस्व 400 करोड़ रुपये है। दिल्ली सरकार ने 609 करोड़ रुपये का फंड तो दिया है किन्तु म्युनिसिपल रिफार्म फण्ड देने से इनकार कर दिया है।

यह भी पढ़े : नए साल की ख़ुशी में वर्जीनिटी तक को बेच देती है लड़कियां इस पार्टी में

यह भी पढ़े:भारत में यहाँ है गोबर बैंक, बनती है बायोगैस

यह भी पढ़े: 7 साल के इस बच्चे के मुंह से डॉक्टरों ने निकाले 80 दांत!

यह भी पढ़े: क्राइम ! प्रेमी नौकर के साथ बेड पर थी बहु तभी आ गयी सास और फिर...प्राइवेट पार्ट



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.