loading...
loading...
loading...
सरकारों ने आज तक के इतिहास को तोड़-मरोड़ कर पेश किया: डॉ. सतीष चंद्र जुलाई माह तक ही वैध होंगे मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के स्वास्थ्य कार्ड रोज नाश्ते में शामिल करे स्वीट कॉर्न पनीर बॉल फर्जी चिकित्सकों के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग सतर्क स्वास्थ्य और पर्यावरण की सुरक्षा के लिए मिनी दौड़ का आयोजन अफगानिस्तान में डैम के पास हुआ आतंकी हमला, 10 पुलिसकर्मी शहीद IND vs WI: अजिंक्य रहाणे सेंचुरी जमाकर आउट, कोहली-पंड्या क्रीज पर FB से हुए नाराज बिग बी, ट्विटर पर की शिकायत श्रीनगर में स्कूल के भीतर छुपे दो आतंकवादियों की मुठभेड़ में मौत, दो जवान जख्मी IND vs WI: रहाणे शतक के करीब, कोहली क्रीज पर, score 192/1 मीरा कुमार ने निर्वाचक मंडल की लिखी चिट्ठी, कहा - इतिहास रचने का है मौका लग्जरी गाड़ी से हो रही थी शराब की तस्करी, पुलिस ने की पकड़ने में सफलता हासिल मध्य प्रदेश पुलिस ने किया इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला ऐसा काम 'ये हैं मोहब्बतें...' के ऐक्टर्स दिव्यांका त्रिपाठी और विवेक दहिया बने नच बलिए सीजन 8 के विनर भोपाल दुनिया के लिए स्मार्ट सिटी का होगा मापदंड: शिवराज सिंह IND vs WI: धवन-रहाणे ने जड़े अर्धशतक, धवन हुए आउट इंतजार खत्म हुआ, चांद का हुआ दीदार, कल मनाई जाएगी ईद आनंदपाल के आम इंसान से एक गैंगस्टर बनने की ये है पूरी कहानी...... IND vs WI: धवन-रहाणे ने दी भारत को मजबूत शुरुआत, बारिश के कारण मैच 43 ओवर का पुलिस की प्रेस कांफ्रेंस में बदमाश ने दी ऐसी धमकी, सुनकर पुलिस हुई हैरान
एमसीडी फंड पर चर्चा के लिए केजरीवाल को भाजपा की चुनौती
sanjeevnitoday.com | Wednesday, January 11, 2017 | 07:10:50 PM
1 of 1

नई दिल्ली। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने नगर निगमों को अपेक्षित फंड के मुद्दे और दिल्ली में पिछले दो वर्षों के दौरान विकास कार्यों की उपेक्षा किये जाने पर सार्वजनिक चर्चा के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को चुनौती दी है। मनोज तिवारी ने बुधवार को कहा कि दिल्ली सरकार के अभिलेखों के अनुसार पिछले 2 वर्षों में विकास कार्यों पर व्यय में कमी आई है| केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के नगर निगमों के साथ राजस्व के बंटवारे पर चौथे दिल्ली वित्त आयोग की सिफारिशों को जान-बूझकर रोक रखा है। इसका असल मकसद निगमों में भाजपा नेतृत्व को बदनाम करना है।
 तिवारी ने कहा कि दिल्ली सरकार यह दावा करती है कि उसने नगर निगमों को अधिक धन का आवंटन किया है किन्तु सच्चाई यह है कि उन्हें आवंटित धन चौथे वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार उन्हें मिल सकने वाले खर्च का 50 प्रतिशत भी नहीं है। उन्होंने कहा कि पूर्वी निगम का वेतन बिल ही 1600 करोड़ रुपये का है जबकि उसका कुल राजस्व 400 करोड़ रुपये है। दिल्ली सरकार ने 609 करोड़ रुपये का फंड तो दिया है किन्तु म्युनिसिपल रिफार्म फण्ड देने से इनकार कर दिया है।

यह भी पढ़े : नए साल की ख़ुशी में वर्जीनिटी तक को बेच देती है लड़कियां इस पार्टी में

यह भी पढ़े:भारत में यहाँ है गोबर बैंक, बनती है बायोगैस

यह भी पढ़े: 7 साल के इस बच्चे के मुंह से डॉक्टरों ने निकाले 80 दांत!

यह भी पढ़े: क्राइम ! प्रेमी नौकर के साथ बेड पर थी बहु तभी आ गयी सास और फिर...प्राइवेट पार्ट



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.