प्रतिदिन दो कुत्तों की नसबंदी के साथ लगाई जा रही वैक्सीन, कुत्तों के बाद सांड़ होंगे बधिया

 


अशोकनगर। जिले में इन दिनों कुत्तों की नसबंदी करने के साथ उन्हें वैक्सीन लगाने का अभियान कलेक्टर के आदेश से चल रहा है। यहां प्रतिदिन दो कुत्तों की नसबंदी करने के साथ उन्हें वैक्सीन लगाई जा रही है। पशु उपसंचालक डॉ.आरके त्यागी ने शनिवार को हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि कलेक्टर अभय वर्मा के आदेश पर जिले में आवारा विचरण करने वाले कुत्तों की नसबंदी अभी नगरीय क्षेत्र में की जा रही है। जिसके तहत एक माह में करीब 50-60 कुत्तों की नसबंदी के तहत प्रतिदिन दो कुत्तों की नसबंदी की जा रही है। उन्होंने बताया कि कुत्तों की नसबंदी की अपेक्षा कलेक्टर के आदेश पर कुतियों की अधिक संख्या में नसबंदी की जा रही है, ताकि वे प्रजनन न कर सकें। 

नसबंदी के बाद 5 दिन कुत्ते को रखना होता है सुरक्षित:
डॉ.त्यागी का कहना है कि एक कुत्ते की नसबंदी करने पर करीब पांच सौ रुपये खर्चा आता है, जिसे वे स्वयं एवं स्टाफ के सहयोग से वहन कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि कुत्ते-कुतियों की नसबंदी आपरेशन करने के बाद 5 दिनों तक उन्हें सुरक्षित अस्पताल के एक रूम में रखा जाता है ताकि उनके आपरेशन के टांके आदि न खुल जांए। इस दौरान उनके दूध-ब्रेड की व्यवस्था भी उनके द्वारा की जाती है।
 
उनका कहना है कि इस अभियान को लेकर मेनका गांधी भी प्रभावित हुईं हैं, उन्होंने बताया कि मेनका गांधी का भी लक्ष्य है कि आवारा विचरण करने वाले कुत्तों को मारा ना जाए बल्कि इस तरह से नसबंदी की जाए। डॉ.त्यागी ने कहा कि इसी लक्ष्य को लेकर वे कुत्ता-कुतियों की नसबंदी एक मिशन के तौर पर कर रहे हैं। अभी यह शुरूआत अशोकनगर के नगरीय क्षेत्र में की गई है, इसके पश्चात जिले के सभी कुत्ता-कुतियों की नसबंदी का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने बताया कि इस नसबंदी अभियान के तहत कुत्ता-कुतियों को रैविज की वैक्सीन भी लगाई जा रही है। 

कुत्तों के बाद सांड़ होंगे बधिया:
पशु उपसंचालक डॉ.आरके त्यागी का कहना है कि जिले में कुत्ता-कुतियों की नसबंदी अभियान के बाद आवारा विचरण करने वाले सांड़ों का बधिया करने का अभियान उनके द्वारा चलाया जाएगा।

यह खबर भी पढ़े: पाकिस्तानी अखबारों सेः पीआईए का विमान जब्त किए जाने से उठानी पड़ी शर्मिंदगी

From around the web