मंदसौरः औसत से कम वर्षा होने से रबी की फसल पर संकट

 


मंदसौर। जिले में औसम से कम वर्षा होने के कारण जिले मे सूखे की स्थिति बनती जा रही है। रबी की फसल में अधिक सिंचाई होने के कारण पानी का स्रोत धीरे - धीरे समाप्त होता जा रहा है। जिले में लगभग दो लाख से भी अधिक कूएं एवं नलकूप है उसके माध्यम से कम सिंचाई करते है दो लाख से भी अधिक हैक्टेयर पर रबी कीफसल जिले में तैयार है विशेषकर अफीम की फसल को किसान बड़े जतन से तैयार करता है अन्य फसलों की तुलना में अफीम की फसल तो तीन गुना पानी की आवश्यकता होती है बाकी रबी में चना, सोयाबीन एवं औषधिय फसलों को सामान्य पानी की आवश्यकता होती है।

मंदसौर जिले के विभिन्न किसान संगठनों में से भारतीय किसान संघ के अध्यक्ष अमृतराम पाटीदार ने बताया कि राज्य सरकार से मंदसौर जिले को सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग की है। जिले के अधिकांश क्षेत्रों में कम वर्षा हुई है और इसका परिणाम आने वाले दिनों में पेयजल संकट के रूप में आयेंगा।  जिले के 10 में से 9 वर्षामापक केंद्रों में मानसून सीजन जून से सितंबर 2020 माह में सालाना औसत 32 इंच से भी कम बारिश हुई। इसके बावजूद सरकार मंदसौर जिले को सूखाग्रस्त घोषित करने को लेकर फैसला नहीं ले पा रही। 

मंदसौर प्रशासन का दावा है कि जिले से जुड़ी आवश्यक रिपोर्ट सरकार को भेजी जा चुकी है। सूखे व सिंचाई साधनों की कमी को इस बात से समझा जा सकता है कि कम बारिश के चलते कृषि विभाग ने रबी सीजन 2020 का रकबा 28 हजार हैक्टेयर तक कम किया है। 2019 रबी सीजन में 2 लाख 86 हजार हैक्टेयर में खेती हुई थी, इस तुलना में इस बार 2 लाख 60 हजार हैक्टेयर एरिया में ही बोवनी का लक्ष्य प्रस्तावित हुआ है। सहायक संचालक आर सी धाकड़ ने बताया कम पानी में तैयार होने वाली फसलों जैसे चना व अन्य बोवनी की सलाह दी गई। 

-आंकड़ों में समझें कौन सा एरिया सालाना औसत 32 इंच से पिछड़ा (स्त्रोत-भू अभिलेख कार्यालय) 

वर्षामापक केंद्र               2020 - 21 में बारिश, आंकड़ा इंच में  
मंदसौर                     22.75 (करीब 10 इंच कम)
सीतामऊ                      21.02 (करीब 11 इंच कम) 
सुवासरा                     27.52 (करीब 4.5 इंच कम) 
गरोठ                        21.02 (करीब 11 इंच कम)
भानपुरा                      18.04 (करीब 15 इंच कम)
मल्हारगढ़                    25.73 (करीब 7.5 इंच कम)
धुंधड़का       32.45 (एकमात्र केंद्र जहां औसत बारिश हुई)
शामगढ़                     31.34 (करीब 0.66 इंच कम)
संजीत                     15.79 (करीब 17.21 इंच कम)

कयामपुर                   20.69 (करीब 11.31 इंच कम)
जिला औसत   23.63 इंच (सालाना औसत से 8.37 इंच कम

यह खबर भी पढ़े: देश के 3 प्रमुख वैक्सीन केन्द्रों का प्रधानमंत्री ने किया दौरा, कोरोना वैक्सीन के निर्माण के प्रगति के बारे में ली जानकारी

From around the web