पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने कहा, शराबबंदी के लिए चाहिए राजनीतिक साहस

 


भोपाल। भाजपा की फायरब्रांड नेता एवं प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने कहा है कि समाज में अपराधों की मुख्य जड़ शराब ही है। शराबबंदी के लिए राजनीतिक साहस चाहिए। साथ ही समाज का चिंतन भी होना चाहिए। यह बातें उन्होंने शुक्रवार को राजधानी भोपाल में अपने निवास पर आयोजित प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कही। 

उन्होंने कहा कि शिवराज सिंह चौहान और नीतीश कुमार सामाजिक चिंतन की सोच रखते हैं। बहुत पहले से शराबबंदी को लेकर मेरे मन में विचार थे। मैं अवसर की प्रतीक्षा कर रही थी। बिहार में महिलाओं का बड़ा समर्थन नीतीश कुमार जी को शराबबंदी की वजह से ही मिला है। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि शराबबंदी के बाद लोग शराब पीना छोड़ देंगे, लेकिन जो लोग अभी शहंशाह की तरह शराब पीते हैं, तब वे चोरों की तरह पिएंगे। शराब से मिलने वाले राजस्व को लेकर उन्होंने कहा कि राजस्व प्राप्ति के और भी कई माध्यम हैं। सरकार चाहे तो वहां से इसकी पूर्ति कर सकती है।

पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने नई दिल्ली के पास पिछले कई दिनों से लगातार जारी किसान आंदोलन को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि लगभग 30 सालों बाद किसान इस तरह एक जगह एकत्रित हुए हैं। सरकार को अपनी बात किसानों तक और किसानों को अपनी बात सरकार तक पहुंचाने का यह सुनहरा अवसर है, लेकिन इस मामले में हठ और अहंकार छोड़ना होगा। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वे इस मामले में इससे ज्यादा कुछ नहीं बोलेंगी।

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा राम मंदिर मामले में पूर्व में एकत्रित किए गए चंदे का हिसाब मांगने संबंधी सवाल पर उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह राजनीति में योग्य, अनुभवी और बड़े कद के नेता हैं, लेकिन उनकी जुबान ही उनकी सबसे बड़ी दुश्मन है। उनका अपनी जुबान पर नियंत्रण नहीं है, इसलिए वे कांग्रेस में भी वह मुकाम हासिल नहीं कर पाए, जिसके वे हकदार हैं। मैं मानती हूं कि उन्होंने श्रीराम मंदिर के लिए चंदा मन से दिया होगा, लेकिन फिर अपनी बात कहकर गड़बड़ कर दी।

उमा भारती ने राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को भोपाल में उनके पड़ोस में आवास आवंटित होने संबंधी सवाल के जवाब में कहा कि वे बेहद सौम्य, सरल और बेहतर व्यक्ति हैं और उन्हें खुशी है कि वे उनके पड़ोस में रहेंगे। उन्होंने कहा कि सिंधिया के साथ उनके मधुर संबंध हैं और जब भी उन्हें कोई परेशानी आएगी, तो वे आगे खड़ी होंगी।

यह खबर भी पढ़े: सुप्रीम कोर्ट ने वेब सीरीज ''मिर्जापुर'' मामले में अमेजन प्राइम और निर्माता को जारी किया नोटिस

From around the web