नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के नाम पर होगा कन्वेन्शन सेन्टर का नाम: मुख्यमंत्री

 


जबलपुर| जबलपुर में बन रहे कन्वेन्शन सेन्टर का नाम नेताजी सुभाषचन्द्र बोस के नाम पर रखा जायेगा। यह घोषणा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को जबलपुर में नगरीय क्षेत्र के विकास कार्यों का लोकार्पण, शिलान्यास एवं हितग्राही लाभ वितरण कार्यक्रम में की। कार्यक्रम को संबोधित करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि नेता जी इस शहर में ना केवल आये बल्कि 6 माह से अधिक अवधि तक वे जेल में देश की आजादी की लड़ाई के लिये रहे भी।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि नेताजी की जबलपुर से बहुत सी स्मृतियां जुड़ी हुई हैं। आज मैने उन स्मृतियों को देखा। हम नेताजी सुभाष चन्द्र बोस जेल में पृथक से द्वार बनाकर, नेताजी जिस बैरक में रहे, वहां उनकी स्मृतियों को संवारने का काम करेंगे। एक चित्र प्रदर्शनी बनाई जाये, जिसमें नेताजी के जन्म से लेकर उनके व्यक्तित्व और कृतित्व को संजोया जाये। उनके जीवन को दर्शाती हुई एक डॉक्युमेन्ट्री फिल्म का निर्माण भी कराया जायेगा।कार्यक्रम में जबलपुर शहर को 238 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात भी मुख्यमंत्री चौहान ने दी। उन्होने विभिन्न कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि संस्कारधानी को उसके अनुरुप विकसित करने में हम कोई भी कसर नहीं छोड़ेंगे। जबलपुर के बिना मध्यप्रदेश की कल्पना नहीं की जा सकती। हम इसकी विशेषता को ध्यान में रखते हुये इसे विकसित करेंगे। मैं आज जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक कर जबलपुर के विकास की योजना बनाकर जाऊंगा। इस दौरान कार्यक्रम स्थल पर नगरीय क्षेत्र में नगर निगम द्वारा किये जा रहे विकास कार्यों पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन भी मुख्यमंत्री ने किया। 

एक जिला एक उत्पाद के तहत जबलपुर जिले के लिये मटर का चयन किया गया है। यह जानकारी भी मुख्यमंत्री चौहान ने मंच से दी। उन्होने कहा कि इसके अन्तर्गत जिले में मटर की प्रोसेसिंग यूनिट लगाई जायेंगी। इस दिशा में वेल्युएडीशन किया जायेगा। हमारा प्रयास है कि मटर को फूड प्रोससिंग करके बेहतर उत्पाद बनायें ताकि उत्पादकों को अधिक से अधिक लाभ दिलाया जा सके। प्रदेश सरकार द्वारा माफिया के खिलाफ छेड़े गये अभियान में जबलपुर की जनता का समर्थन भी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मांगा। उन्होने कहा कि यह लड़ाई बिना जनता की ताकत के नहीं जीती जा सकती। 

सीएम चौहान ने कहा कि इस समय अपन कुछ अलग मूड में हैं। जितने माफिया, बदमाश, गुण्डे हैं, उन्हें किसी भी कीमत पर छोड़ा नहीं जायेगा। अफसरों को सीधे आदेश है कि गुण्डे, बदमाश और दादा को तबाह कर दें। हमने सिर्फ जबलपुर में 116 करोड़ रुपये की जमीन भूमाफियों से मुक्त कराई है।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जबलपुर जिला प्रशासन द्वारा माफिया के विरुद्ध की गई कार्यवाहियों कि सराहना की। माफियाओं के विरुद्ध छेड़े गये अभियान को सतत् जारी रखने के निर्देश भी मंच से ही अधिकारियों को मुख्यमंत्री ने दिये। उन्होने कहा कि इस कार्यवाही को बंद ना करें। यह भी सुनिश्चित करें कि इस कार्यवाही की आड़ में किसी गरीब को परेशान ना किया जाये। शक्तियों का दुरुपयोग ना किया जाये। प्रलोभन देकर अवैध रुप से धन एकत्र करने वाली चिटफंड कंपनियों के विरुद्ध की जा रही कार्यवाहियों की जानकारी आमजन को मुख्यमंत्री चौहान ने दी। 

अपने संबोधन में मुख्यमंत्री चौहान ने  ऐसे गरीब, जिनके पास जमीन नहीं है, उन्हें पट्टा देकर मालिक बनाने की बात कही। उन्होने कहा कि प्रदेश के खजाने पर पहला हक हमारे गरीब भाईयों और बहनों का है। हमने संबल योजना फिर से प्रारंभ की है। यह गरीबों की ताकत और उनका संबल है। जबलपुर के शहीद स्मारक में आयोजित कार्यक्रम में पीएम स्वनिधी योजना, आयुष्मान भारत योजना, पात्रता पर्ची, श्रमिक कार्ड वितरण सहित विभिन्न योजनाओं के हितलाभ का वितरण भी मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर विकास कार्यों की प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। कार्यक्रम में सांसद राकेश सिंह, विधायक अजय विश्नोई, नन्दिनी मरावी, अशोक रोहाणी, सुशील तिवारी इंदु एवं विधायक संजय यादव, जिला पंचायत की प्रशासकीय समिति की अध्यक्ष  मनोरमा पटेल, पूर्व मंत्री अंचल सोनकर, हरेन्द्र जीत सिंह बब्बू एवं  शरद जैन,विनोद गोंटिया, आशीष दुबे, अभिलाष पाण्डे, जीएस ठाकुर, रानू तिवारी,  प्रतिभा सिंह, सुमित्रा वाल्मीक एवं दिलीप दुबे भी मौजूद रहे।

यह खबर भी पढ़े: पाक्योंग के ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट पर 19 माह बाद उतरा हवाई जहाज

From around the web