स्वदेशी वैक्सीन का निर्माण गर्व का विषय : मुख्यमंत्री शिवराज

 


भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना से बचाव के लिए स्वेदेशी वैक्सीन का निर्माण और उसका प्रयोग गर्व का विषय हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व का ही यह परिणाम है कि आज से देशवासियों को इस मेड इन इंडिया वैक्सीन का लाभ मिलना प्रारंभ हो गया है। सच ही कहा गया है कि "मोदी है तो मुमकिन है।" उन्होंने यह बात शनिवार को राजधानी भोपाल के हमीदिया अस्पताल के कोविड ब्लाक एक में कोविड वैक्सीन टीकाकरण अभियान का शुभारंभ अवसर पर कही। इस अवसर पर मुख्यमंत्री की उपस्थिति में हमीदिया अस्पताल में कार्यरत वार्ड बॉय संजय यादव को प्रथम वैक्सीन लगाया गया। 

मुख्यमंत्री ने प्रथम वैक्सीन लगवाने वाले वार्ड बॉय संजय यादव को बधाई दी। संजय यादव ने मुख्यमंत्री को अभिवादन कर धन्यवाद दिया। इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी, वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा, अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान, कमिश्नर कवीन्द्र कियावत, कलेक्टर अविनाश लवानिया, डीआईजी इरशाद वली, जनसंपर्क संचालक आशुतोष प्रताप सिंह उपस्थित थे।

"वैज्ञानिकों को किया प्रणाम"
मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश में वैक्सीनेशन प्रोग्राम की विस्तार पूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया प्रधानमंत्री मोदी ने मैन आफ आइडियाज हैं। उन्होंने समय रहते संकट को पहचाना था। कोरोना के नियंत्रण के लिए देश में उनके द्वारा किए गए प्रयास ऐतिहासिक हैं। कोरोना से बचाव के लिए स्वदेशी वैक्सीन के निर्माण और आज से अभियान के रूप में देशव्यापी स्तर पर वेक्सीन लगाने का कार्य शुरू हुआ है। इसके लिए निश्चित ही हमारे वैज्ञानिक विशेष धन्यवाद के पात्र हैं जिन्होंने दिन-रात एक कर वेक्सीन के निर्माण का कार्य किया। वैज्ञानिक वर्ग को प्रणाम करता हूँ।

"बलिदानियों का स्मरण"
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज उन बलिदानियों का स्मरण स्वाभाविक है जिन्होंने कोरोना से प्रभावितों का तब इलाज किया जब संक्रमित व्यक्ति के नाम से ही सभी घबराते थे। अनेक चिकित्सक उपचार सेवाएं देते-देते अपना जीवन त्याग कर दुनिया से चले गये। उन सभी को नमन करते हुए वेक्सिनेशन प्रारंभ किया जा रहा है।

"चाक चौबंद हैं व्यवस्थाएं"
मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में 150 स्थानों पर वेक्सिनेशन शुरू किया गया है। प्रथम चरण में कोरोना वारियर्स को इसका लाभ मिलेगा।  मध्यप्रदेश में भी प्राथमिकता क्रम में निर्धारित श्रेणियों के अनुसार वैक्सीन लगाई जाएंगी। पहली वेकसीन लगवाने के पश्चात दूसरी निर्धारित अवधि 28 दिन के बाद लगेगी। इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है। यह पूरी तरह प्रामाणिक है। नागरिकों को कोरोना महामारी से बचाने के लिए यह प्रभावी सिद्ध होगी। वेक्सीन के लिए आवश्यक प्रोटोकाल का पालन करने के निर्देश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर हमीदिया अस्पताल स्टाफ के चिकित्सकों और पैरामेडिकल स्टाफ को बधाई  भी दी।

"मुख्यमंत्री ने दिया संजय यादव को धन्यवाद"
मुख्यमंत्री की उपस्थिति में प्रथम वैक्सीन वार्ड बॉय संजय यादव ने लगवाई। मुख्यमंत्री ने संजय को धन्यवाद देते हुए हालचाल पूछा। संजय ने मुख्यमंत्री का अभिवादन किया। इस अवसर पर डॉ. एके उपाध्याय, स्टाफ नर्स उषा किरण, एएनएम शकुन कर्णवाल, साफ्टवेयर इंजीनियर अंजलि राठौर ड्यूटी पर थीं। मुख्यमंत्री ने चिकित्सकों और अन्य स्टाफ को उनकी सेवाओं के लिए भी धन्यवाद दिया। हमीदिया के कोविड ब्लाक के अन्य कक्ष दो में डॉ एसके त्रिवेदी के साथ स्टाफ नर्स प्रीति पगारे और ए.एन.एम. सुश्री प्रतिभा सिंह ड्यूटी पर थीं। यहां डॉ. अजय गोयनका ने टीका लगवाया। 

"प्रधानमंत्री का संबोधन सुना"
मुख्यमंत्री ने टीकाकरण अभियान प्रारंभ होने के पहले प्रधानमंत्री मोदी का संबोधन सुना। हमीदिया अस्पताल, गांधी मेडिकल कॉलेज परिसर में चिकित्सकों, पैरामेडिकल स्टाफ सहित प्रशासनिक अधिकारियों ने भी इस प्रसारण को सुनने का लाभ लिया।

यह खबर भी पढ़े: HCL कंपनी में शुरू होने जा रही हैं बंपर भर्तियां, दिसंबर तिमाही में दी थी 12 हजार से ज्यादा लोगों को नौकरियां

यह खबर भी पढ़े: मिलिंद सोमन से पूछा गया छोटी उम्र की लाइफ पार्टनर पर सवाल, बोले- सेक्स से कोई लेना देना नहीं है...

From around the web