सीएम शिवराज ने आदिवासी समाज को बताया प्रकृति और संस्कृति का रक्षक

 


भोपाल। आज यानि रविवार को विश्व आदिवासी दिवस है। हर साल 9 अगस्त को यह दिवस मनाया जाता है। इसकी शुरूआत 1982 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने आदिवासियों के भले के लिए एक कार्यदल गठित की थी, जिसकी बैठक 9 अगस्त 1982 को हुई थी। उसी के बाद से संयुक्त राष्ट्र संघ ने अपने सदस्य देशों में प्रतिवर्ष 9 अगस्त को ‘विश्व आदिवासी दिवस’ मनाने की घोषणा की। विश्व आदिवासी दिवस पर मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने आदिवासी भाइयों को बधाई दी है। 

सीएम शिवराज ने आदिवासी भाई- बहनों को संस्कृति और प्रकृति का रक्षक बताते हुए उन्हें समाज का अहम हिस्सा बताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि - ‘जल, जंगल, जमीन के प्रहरी और सच्चे सेवकों को विश्व आदिवासी दिवस की हार्दिक बधाई! आदिवासी भाई-बहन ही मध्यप्रदेश की संस्कृति के संवाहक और गौरव हैं। इनके उत्थान में ही मध्यप्रदेश का कल्याण है। आदिवासियों के हितों और अधिकारों की रक्षा के लिए मैं और पूरा मध्यप्रदेश संकल्पित है।

एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने आदिवासी समाज के वीरों को याद करते हुए इस खास दिन पर उन्हें नमन किया है। उन्होंने कहा कि ‘आदिवासी समाज ने प्रकृति और संस्कृति की रक्षा के साथ-साथ देश की रक्षा के लिए भी प्राणों को न्योछावर करने में पीछे नहीं रहे। श्रद्धेय बिरसा मुण्डा, टंट्या भील, नारायण सिंह, गुंडाधुर, रघुनाथ शाह, शंकर शाह, बादल भोई और अनेक विस्मृत वीरों को विश्व आदिवासी दिवस पर नमन करता हूं। 

From around the web