मप्र के 32 जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि, अब तक 4084 कौवों-जंगली पक्षियों की मौत

 


भोपाल। मध्यप्रदेश में अब तक 32 जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। इनमें इन्दौर, आगर, नीमच, देवास, उज्जैन, खंडवा, खरगौन, गुना, शिवपुरी, राजगढ़, शाजापुर, विदिशा, दतिया, अशोकनगर, बड़वानी, भोपाल, होशंगाबाद, बुरहानपुर, छिन्दवाड़ा, डिंडौरी, मण्डला, सागर, धार, सतना, पन्ना, बालाघाट, श्योपुर, छतरपुर, झाबुआ, हरदा, मंदसौर एवं रायसेन शामिल हैं। इन जिलों में अब तक 4084 कौवों-जंगली पक्षियों की मृत्यु हुई है। 

जनसम्पर्क अधिकार सुनीता दुबे ने गुरुवार देर शाम इसकी जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में 32 जिलों में अब तक कुल 4084 कौवों एवं जंगली पक्षियों में मृत्यु की सूचना प्राप्त हुई है। इनमें झाबुआ, हरदा, मंदसौर एवं रायसेन में  मुर्गियों में भी बर्डफ्लू रोग उदभेद की पुष्टि हो चुकी है। रायसेन जिले के गैरतगंज विकासखंड के गाँव खरवरिया गढ़ी के भोपाल स्थित राष्ट्रीय पशु रोग अनुसंधान प्रयोगशाला को भेजे गए मुर्गियों के सैंपल में एच5एन8 वायरस की पुष्टि हुई है। कलेक्टर रायसेन को केंद्र शासन द्वारा जारी एडवाइजरी के अनुसार कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं।

उन्होंने बताया कि आज 21 जनवरी को राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग अनुसंधान NISAD भोपाल से प्राप्त सूचना के अनुसार रायसेन जिले के ग्राम खरवरिया गढ़ी विकासखंड गैरतगंज में मुर्गियों के सेंपल में बर्डफ्लू का एच5एन8 वायरस पॉजिटिव पाये जाने पर बर्डफ्लू के प्रोटोकाल अनुसार तत्काल कार्यवाही सुनिश्चित करने के लिये जिला कलेक्टर एवं विभागीय अधिकारियों को आवश्यक निर्देश जारी किए गए हैं।

प्रदेश के विभिन्न जिलों से 21 जनवरी तक 453 सेंपल राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग अनुसंधान प्रयोगशाला NISHAD भोपाल को जाँच के लिये प्रेषित किए गए हैं। समस्त जिलों में बर्डफ्लू रोग नियंत्रण के लिये सतर्कता-सावधानी रखी जा रही है तथा बर्डफ्लू सर्वेलेंस का कार्य प्रगति पर है।

यह खबर भी पढ़े: वर्ष 2020 में CRPF ने जम्मू-कश्मीर में कई अभियान चलाकर करीब 215 आतंकियों को किया ढेर

From around the web