आरिफ मसूद ने जिला प्रशासन की कार्यवाही को बताया दबाव की राजनीति, भाजपा पर लगाए आरोप

 


भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के मध्य विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद के खिलाफ जिला प्रशासन द्वारा बड़ी कार्रवाई की गई है। भोपाल की बड़ी झील के पास खानूगांव में उनके द्वारा किये अवैध निर्माण पर नगर-निगम और जिला प्रशासन की टीम ने गुरुवार को बुलडोजर चलाकर धराशायी कर दिया। उनके खानूगांव स्थित कालेज के शेड और सीढ़ियों को तोड़ा गया है। इस दौरान मौके पर भारी पुलिसबल तैनात रहा। इससे पहले उनके खिलाफ धार्मिक भावनाएं भडक़ाने संबंधी प्राथमिकी भी दर्ज हो चुकी है। जिला प्रशासन की कार्यवाई पर आरिफ मसूद का बयान आया है। 

जिला प्रशासन की कार्यवाई पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि खानूगांव स्थित मेरे कॉलेज के एक हिस्से को अवैध बताकर तोड़ दिया गया है, जबकि कोर्ट से मुझे परमिशन मिल चुकी है। यह भाजपा सरकार डराने का काम कर रही है। हम लोकतंत्र और संविधान पर भरोसा करने वाले लोग है, घबराने की जरूरत नहीं है। हम कानूनी लड़ाई लड़ेंगे। 

बच्चों को अगर खुले मैदान में भी पढ़ाना पढ़े तो हम पढ़ाएंगे जरूर। सरकार ने मुझ पर दबाव बनाने के लिए कार्रवाई की है। फ्रांस के विरोध में की गई रैली पर आरिफ मसूद ने सफाई देते हुए कहा कि मेरा प्रोटेस्ट शांतिपूर्ण था। मैंने कभी किसी के धर्म के बारे में बुरा नहीं बोला। मेरे धर्म के बारे में जब बुरा बोला गया, उस पर रिएक्ट करने का मुझे संवैधानिक अधिकार है। 

यह खबर भी पढ़े: रोजगार के मुद्दे पर राहुल ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- सिर्फ खोखले वादे कर रही सरकार

यह खबर भी पढ़े: पश्चिम बंगाल में ममता की विदाई तय, भाजपा को मिलेगा दो तिहाई बहुमत : अमित शाह

From around the web