Coronavirus: O ब्लड ग्रुप वालों के लिए हैं खुशखबरी, इनको कोरोना का खतरा सबसे कम

 


नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोहराम मचाने वाले कोरोना वायरस संक्रमण अपनी रफ्तार पकड़ रहा है। लॉकडाउन में छूट मिलने के बाद अब लोगों को लगने लगा है कि कोरोना वायरस कभी न कभी हर किसी को हो सकता है। भारत के साथ-साथ कई अन्‍य देशों की स्थिति भी अब दोबारा चिंताजनक होती जा रही है। सबकी नजरें सिर्फ कोरोना वायरस संक्रमण की वैक्‍सीन पर टिकी हैं, जिनको विकसित करने के लिए कई देशों में काम चल रहा है। लेकिन इस बीच वैज्ञानिकों ने एक नया शोध  पेश किया है। इसमें दावा किया गया है कि ब्लड ग्रुप के जरिए पहले ही पता चल सकता है कि किसे कोरोना वायरस संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा है।

Coronavirus: O ब्लड ग्रुप वालों के लिए हैं खुशखबरी, इनको कोरोना का खतरा सबसे कम

सूत्रों के मुताबिक अनल्स ऑफ इंटरनल मेडिसिन में मंगलवार को प्रकाशित शोध में शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि टाइप ओ और आरएच- नेगेटिव ब्‍लड ग्रुप वाले लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण होने का खतरा सबसे कम होता है। शोध में 2,25,556 कनाडाई लोगों को शामिल किया गया। इन सभी का कोरोना वायरस टेस्‍ट किया गया। इनमें ब्‍लड ग्रुप ए, एबी, बी की अपेक्षा कोरोना वायरस पॉजिटिव आने का खतरा करीब 12 फीसदी और गंभीर कोविड 19 होने व मौत का खतरा करीब 13 फीसदी कम पाया गया। इन सभी का ब्‍लड ग्रुप 'ओ' था। दावा किया गया है कि जिन लोगों का ब्‍लड ग्रुप आरएच नेगेटिव है, उनका भी कोविड 19 से बचाव होगा।  दावा किया गया है कि सबसे कम खतरा ओ नेगेटिव ब्‍लड ग्रुप के लोगों को है।

Coronavirus: O ब्लड ग्रुप वालों के लिए हैं खुशखबरी, इनको कोरोना का खतरा सबसे कम

टोरंटो के सेंट माइकल हॉस्पिटल के डॉक्‍टर और शोधकर्ता जोल रे के अनुसार इन लोगों में कोरोना वायरस से जंग के लिए संभवत: खास एंटीबॉडी होती हैं। उनका कहना है कि अब उनका अगला शोध इन्‍हीं एंटीबॉडी को लेकर होगा। इसके साथ ही शोध में इस बाद का भी दावा किया गया है कि गंभीर कोविड 19 केस में विटामिन डी पूरी तरह से नाकाम है। 

Coronavirus: O ब्लड ग्रुप वालों के लिए हैं खुशखबरी, इनको कोरोना का खतरा सबसे कम

विटामिन डी और कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर कई दावे किए जा रहे हैं। इस शोध में यह बात सामने आई है कि शरीर में कम विटामिन डी का स्‍तर होने से कोविड 19 का खतरा अधिक बढ़ा पाया गया। वहीं इसमें इस बात का भी पता चला कि अगर शरीर में विटामिन डी की मात्रा अधिक भी है, तो भी कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा कम नहीं होगा। गंभीर रूप से बीमार कोरोना मरीजों को विटामिन डी देने से उनके आईसीयू में न जाने या अस्‍पताल में उनका समय कम होने से संबंधी कोई मदद नहीं मिलती। 

यह खबर भी पढ़े: नाइजीरिया में नरसंहार: बोको हरम के आतंकियों ने खेत में काम कर रहे 110 लोगों उतारा मौत के घाट, औरतों को उठा ले गए

From around the web