किसानों की मौत और पेट्रोल-डीजल के दामों वृद्धि के बीच चल रही है प्रतिस्पर्द्धा: कांग्रेस

 


रांची। झारखंड कांग्रेस ने देशभर में चल रहे किसान आंदोलन और पेट्रोल-डीजल की कीमत में निरंतर हो रही बढ़ोतरी को लेकर भाजपा पर हमला बोला है। बुधवार को कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोरनाथ शाहदेव और राजेश गुप्ता ने कहा कि किसानों की शहादत की संख्या और पेट्रोल-डीजल की कीमत में वृद्धि को लेकर प्रतिस्पर्द्धा चल रही है। इससे देश का आम नागरिक त्रस्त है और केंद्र सरकार किसानों की मांग मानने और पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत पर अंकुश लगाने की बजाय इस प्रतियोगिता का मजा लेने में जुटी है।

प्रवक्ताओं ने कहा कि कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर देशभर के किसान पिछले 57 दिन से आंदोलनरत हैं। इस दौरान अब तक 60 से अधिक किसानों की मौत हो चुकी है। केंद्र सरकार के अड़ियल रवैये से अन्नदाता मायूस हैं, लेकिन समस्या का समाधान होता नजर नहीं आ रहा है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में सत्ता संभालते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा सरकार ने इस बात का खुलासा करा दिया था कि वह पूंजीपतियों को नमन और किसानों का दमन करने वाली सरकार है। 

सरकार ने इसकी शुरुआत किसानों को मिलने वाले बोनस की समाप्ति का फरमान कर किया। फिर पूंजीपतियों के लिए किसानों की भूमि पर कब्जे का षड्यंत्र किया। जबकि भाजपा नेताओं का लागत प्लस 50 प्रतिशत का वादा भी सिर्फ जुमला निकला। उन्होंने कहा कि समर्थन मूल्य पर भी केंद्र सरकार लगातार झूठ बोल रही है। कांग्रेस शासनकाल में फसलों का समर्थन मूल्य 219 प्रतिशत तक बढ़ाया गया, जबकि मोदी सरकार में धान और गेहूं का समर्थन मूल्य मात्र 41 और 42 प्रतिशत तक बढ़ा।

यह खबर भी पढ़े: टिकरी बॉर्डर पर किसान ने खाया जहरीला पदार्थ, सुसाइड नोट में लिखी ये बात

From around the web