मानव सेवा ही सबसे बड़ी सेवा, इस पुण्यकर्म में सभी लोगों की भागीदारी होनी चाहिए

 


जयपुर।  विधवा , विकलांग ,मुकबधिर बेसहारा , वृद्धजनों आदि को शिक्षा सागर कोलोनी वार्ड 98 ग्रेटर में सांगानेर में सम्मान स्वरूप माला पहनाकर वस्त्र ,ट्वाल व प्रसाद देकर सम्बल दिया गया। आचार्य प्रेम प्रकाश बैरवा ने बताया कि समाज की मुख्य धारा से वंचित हुये माता-बहनो, बुजुर्गो को मानव सेवा ई-मित्र के द्वारा विधवा,विकलांग, अनाथ,लम्बी बीमारी से पीडित,असहाय, अभावग्रस्त,मुकबधिर, कचरा बीनने वाले, प्रतिभाशाली छात्रायें,तम्बू में रहने वाले ,विधुर के बच्चे, संतानहीन दम्पती, दिव्यांग ,मनोरोगी, आदि  सम्माननीय बन्धुजनों को मानव  समाज की मुख्यधारा में जोडने के लिए पूर्णत: निःशुल्क फाॅर्म भरे जाते है।

मानव सेवा ही सबसे बड़ी सेवा, इस पुण्यकर्म में सभी लोगों की भागीदारी होनी चाहिएमानव सेवा ही सबसे बड़ी सेवा, इस पुण्यकर्म में सभी लोगों की भागीदारी होनी चाहिएमानव सेवा ही सबसे बड़ी सेवा, इस पुण्यकर्म में सभी लोगों की भागीदारी होनी चाहिए

ताकि समाज की मुख्य धारा में जुड़कर सुखीपूर्वक जीवन यापन कर सकें, आचार्य प्रेमप्रकाश बैरवा ने बताया कि मानव सेवा ही सबसे बड़ सेवा है इस पुण्यकर्म में सभी लोगों की भागीदारी होनी चाहिए, बुद्धिजीवी मानव के भरोसे ही इस जगत के सभी मूक पशु पक्षी व प्राणी जीवित है। इस सम्मान समारोह में पार्षद हेमराज बैरवा, सन्नू चौधरी व राकेश जोतड़ ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। कार्यक्रम में अनिता मीमरोट , चन्द्रिका प्रजापत , रेखा बैरवा , पूनम महावर , रामपती बंशीवाल, लोकेश विजयवर्गीय , अनिल मुराडिया, रामेश्वर प्रसाद दतुली ,ताराचंद नागर , कृष्ण कन्हैया बंशीवाल, प्रहलाद कुमार,  राहुल, बजरंग आदि मौजूद रहे।

यह खबर भी पढ़े: Live Updates/विरोध झेलने के बाद कांग्रेस सांसद ने लगाया बड़ा आरोप, कहा- किसान आंदोलन में लाठी और हथियारों से लैस लोग मौजूद

 

From around the web