सिंघु बॉर्डर: साजिश के आरोप में पकड़ा गया संदिग्ध बयान से पलटा

 


नई दिल्ली। सिंघु बॉर्डर पर शुक्रवार रात किसानों ने जिस योगेश नाम के लड़के को किसान आंदोलन में खून-खराबे की साजिश का हिस्सा बना कर पेश किया था। शनिवार सुबह वह पुलिस के पास अपने बयान से पलट गया है। पुलिस के सामने उसने अपना दूसरा बयान दिया है। बीती रात इस लड़के ने बयान दिया था कि वह 10 साथियों के साथ यहां आएगा और आंदोलन में हथियार सप्लाई करेगा। चार किसानों को शूट भी किया जाएगा।  साथ ही 26 जनवरी को पुलिसकर्मियों पर फायरिंग की जाएगी, जिसके जवाब में पुलिसकर्मी फिर किसानों पर फायरिंग करेंगे। किसानों का आरोप था कि किसानों के आंदोलन को हिंसक बनाने की साजिश की जा रही है। बाद में इस लड़के को पुलिस को सौंप दिया गया।

किसान आंदोलन में पकड़े गए युवक के पुलिस हिरासत में आने के बाद ऐसे बयान सामने आ रहे हैं कि किसानों ने उससे यह सब जबरदस्ती बुलवाया था। इसका एक संदिग्ध वीडियो वायरल भी हो रहा है। इस वायरल वीडियो के अनुसार, उसे दो दिन तक बंधक बनाकर रखा गया, मारा पीटा गया और उसे कहा गया कि तेरी हत्या की जाएगी और किसी को पता भी  नहीं चलेगा। जान बचाने के लिए उसने वह कहानी बनाई थी। किसानों ने कहा कि अगर तुम यह कहानी मीडिया के सामने प्रेस वार्ता में सुनाओगे तो तुम्हें छोड़ देंगे। आरोपित योगेश ने बताया कि मेरे ऊपर पहले कोई केस नहीं है। ‘मैंने आज तक कुछ गलत किया है और मेरे से वह कहानी जबरदस्ती किसानों ने कहलवाई थी। युवक के आरोप में कितनी सच्चाईआरोपित युवक योगेश ने के आरोप में कितनी सच्चाई है उसकी जांच हरियाणा पुलिस कर  रही है। सभी साक्ष्यों की पुलिस टीम जांच कर रही है कि इसके आरोपों में कितनी सच्चाई है। यह तो जांच के बाद साफ हो पाएगा कि किसान इस संदिग्ध योगेश को मोहरा बना रहे हैं या कोई इस तरह की साजिश रचने की बात सामने आ रही है। 

यह खबर भी पढ़े: नेताजी के लोकतांत्रिक आदर्श बलिदान और त्‍याग के सिद्धातों पर आधारित थे : उप राष्‍ट्रपति

From around the web