पुलिस की भी मिली भगत से सेक्स रैकेट चलाए जाने का गंभीर आरोप, बलात्कारियों को दे रही हैं संरक्षण , 2 महीने बाद बहार आई पीडिता ने सुनाई आपबीती

 


रायपुर। छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले के सरकन्डा क्षेत्र स्थित पीड़ित महिलाओं ने उज्वला होम में सेक्स रैकेट चलाए जाने का गंभीर आरोप लगाया है। पीड़ितों ने बताया कि इसमें पुलिस की भी मिली भगत है। यही कारण है कि सरकन्डा थाना में हम लोगों का एफआईआर भी दर्ज नहीं किया गया है। उज्जवला होम में रहकर किसी तरह बाहर निकली पीड़ित और शोषित महिलाओं ने पत्रकारों से प्रेस क्लब में चर्चा करते हुए बताया कि उनके साथ सेन्टर में रेप किया गया। शिकायत की बात सामने आने पर संचालक ने जान से मारने की धमकी भी दिया है। यहां आश्रय देने के नाम पर लड़कियों का शोषण किया जाता है। पत्रकारों से बातचीत के दौरान पीड़ित लड़कियों ने पुलिस पर भी बलात्कारियों को संरक्षण देने का गंभीर आरोप लगाया है।

बिलासपुर शहर में पीड़ित और शोषित महिलाओं को आसरा देने के लिए उज्वला होम की स्थापना की गई थी। किसी तरह आजाद हुई तीनो लड़कियों ने जानकारी दी कि उन पर अनावश्यक रूप से दबाव डालकर सेक्स करने के लिए मजबूर किया जाता था।  सेन्टर में गाली गलौच और हिंसक व्यवहार तो आम बात थी। 

पीडित महिलाओं की आपबीती

इस पूरे मामले में जब उन्होंने हिम्मत कर पुलिस में शिकायत दर्ज करानी चाही तो पुलिस ने शिकायत लिखने से भी मना कर दिया। आखिरकार पूरा मामला मीडिया में आया और पुलिस प्रशासन पर दबाव बना तो इस पर शिकायत दर्ज कर ली गई है। लेकिन जांच की रफ्तार बेहद धीमी है। 

पीड़ितों में एक लड़की ने बताया कि 2 महीने तक उज्जवला होम में रही। पहुंचने के चौथे दिन गलत हरकत संस्था संचालक जितेंद्र मौर्य ने किया। जब मैंने पुलिस में शिकायत की बता कही तो उसने कहा कि कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता है। इसके बाद उसने टॉर्चर करना शुरू कर दिया। इस बीच मेरे साथी के पति  आए। उन्हीं की वजह से हम बाहर निकलने में कामयाब हुए हैं। जब हम थाना रिपोर्ट लिखाने गए तो वहां भी एक महिला पुलिस वाली ने हमारे बयान को बदल दिया। महिला पुलिस ने कहा कि बयान ऐसे नहीं, ऐसे लिखाओ।

जब उज्जवला होम्स के सेक्स रैकेट अखबारों की सुर्खियां बनी तो पुलिस हरकत में आयी। महिला बाल विकास विभाग ने भी मामले को संज्ञान में लिया। एडिश्नल एसपी उमेश कश्यप ने कहा कि मामला काफी गंभीर है। सरकंडा के राजकिशोर नगर स्थित उज्जवला होम्स में कई युवतियां रहती हैं। सेन्टर से जुड़ी कई गंभीर शिकायतें थाने में दर्ज हुई हैं। पुलिस पूरे मामले में गंभीरता से जांच कर रही है।

यह खबर भी पढ़े: एक या दो नहीं बल्कि कुल 38 पुरुषों ने 17 साल की नाबालिग लड़की का किया यौन शोषण, जानें पूरी घटना

From around the web