सर्व आदिवासी समाज ने प्रशासन के खिलाफ किया धरना प्रदर्शन

 


बालोद। बालोद जिले में आदिवासियों पर हो रहे अन्याय के खिलाफ व जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन ,भूमाफिया व परदेशिया के विरुद्ध जिले के सर्व आदिवासी समाज ने  बुधवार को नया बस स्टैंड में धरना प्रदर्शन कर  जमकर हमला किया। समाज के वक्ताओ ने भूमाफिया के  हाथों मोटी रकम लेकर एसडीएम पर बिकने का आरोप लगाया है। 

इस दौरान सर्व आदिवासी समाज के लोगो ने जिला मुख्यालय के गंजपारा में स्थित टंडन लाल कावरे के तोड़े गए बाउंड्रीवाल और दुकान में जाने के लिए रैली की शक्ल में निकले थे, जिसे पुलिस ने दिल्ली तिराहे और गंजपारा में रोकने का प्रयास किया गया। जिले में आदिवासियों के मकान तोड़ने  मामले पर कार्रवाई को लेकर मुख्य मार्ग में  चक्काजाम कर दिया।

आदिवासी समाज की ओर से पूर्व सांसद सोहन ने  अपर कलेक्ट एके वाजपेयी, अतरिक्त पुलिस अधीक्षक से चर्चा किया । जिसमें प्रशासन के द्वारा भूमाफिया को 72 धंटे में गिरप्तार करने व आदिवासियों की जमीन के मामले पर 20 दिनों के अंदर समाधान करने की लिखित रूप देने पर आदिवासियों ने धरना प्रदर्शन समाप्त किया गया। 

धरना को सबोधित करते हुए पूर्व सांसद सोहन पोटाई ने जिला प्रशासन को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि बालोद जिले में आदिवासियों के साथ लगातार अत्याचार किया जा रहा हैं। यहाँ के टीआई भी आदिवासी हैं और आदिवासियों के साथ अत्याचार किया जा रहा हैं।  प्रदेश सरकार भी आदिवासियों के साथ अन्याय कर रही हैं। उन्होंने कहा कि प्रशासन द्वारा  आदिवासी परिवार के दुकान को तोड़ दिया है, जिसका आदिवासी समाज विरोध करता हैं। 

प्रशासन ने   भूमाफिया के खिलाफ कार्रवाई  करने व आदिवासी की जमीन के मामले को लेकर 20 में समाधान करने की आश्वासन दिया है। यदि प्रशासन द्वारा 20 दिनों के अंदर समाधान नही किया गया तो बालोद में फिर बड़ा आंदोलन करने की चेतावनी प्रशासन को दी गई है  । 

 

यह खबर भी पढ़े: दिल्ली: मेट्रो के मुसाफिरों को करना होगा इन नियमों का पालन, सिर्फ कार्ड से ही कर सकेंगे प्रवेश

From around the web