अब 5 फरवरी को होगी लालू के जेल मैनुअल उल्लंघन मामले की सुनवाई, कोर्ट ने एसओपी पर गृह विभाग से मांगा जवाब

 


रांची। चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता राजद सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के जेल मैन्युअल उल्लंघन मामले में झारखंड हाईकोर्ट में शुक्रवार को सुनवाई हुई। अपर महाधिवक्ता आशुतोष आनंद ने बताया कि जेल मैन्युअल से संबंधित रिवाइज्ड एसओपी को अदालत में प्रस्तुत किया गया। इसके बाद इसे अप्रूवल के लिए चीफ सेक्रेटरी प्रिंसिपल ऑफ जेल के पास भेजा गया है। इस मामले में रिम्स प्रबंधन की ओर से भी आज जवाब नहीं दिया गया है। जिसे लेकर कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की है। 

इस मामले में अब पांच फरवरी को सुनवाई होगी। अदालत ने इस मामले में सुनवाई के लिए अगली तिथि अब पांच फरवरी तय की है। इस मामले में पिछली सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने पूछा था कि किनके आदेश से लालू को रिम्स के पेइंग वार्ड से रिम्स निदेशक के बंगले में और बंगले से फिर पेइंग वार्ड में शिफ्ट किया गया था। अदालत ने जेल मैन्युअल और लालू के सेवादारों से संबंधित जानकारी भी मांगी थी। 

इस पर सरकार और जेल प्रशासन के जवाब से हाईकोर्ट असंतुष्ट था। सरकार की ओर से यह बताया गया था कि इस मामले में कोई ठोस नियम या प्रावधान नहीं है, जिसके बाद सरकार को कहा गया था कि जेल से बाहर रहनेवाले कैदियों और सेवादारों के मामले में सरकार एसओपी तैयार कर पूरी जानकारी दी।

 उल्लेखनीय है कि रिम्स के पेइंग वार्ड में इलाजरत लालू को रिम्स निदेशक के बंगले में शिफ्ट किया गया था। वहां पर उनकी मोबाइल फोन पर बात करते हुए तसवीरें और खबरें सामने आयी थी। इसके बाद लालू पर जेल मैन्युअल के उल्लंघन से संबंधित मामला पटना में दर्ज कराया गया था। हाईकोर्ट ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए इस पर सरकार, रिम्स प्रबंधन और जेल प्रशासन से जवाब तलब किया था। 

मालूम हो कि बीते 21 जनवरी को लालू की सेहत गंभीर हो गयी थी। शाम 7 बजे के करीब लालू को सांस लेने में समस्या होने लगी थी। विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक लालू के फेफड़े में पानी की शिकायत के साथ उन्हें बुखार भी है।अपने पिता के गंभीर सेहत को लेकर उनके छोटे बेटे तेजस्वी प्रसाद यादव भी चिंतित हैं। उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता से बेहतर इलाज की गुहार लगाई है।

 रिम्स निदेशक डॉ. कामेश्वर प्रसाद ने कहा कि लालू के फेफड़े में संक्रमण है। फिलहाल वह लोगों से बातचीत कर रहे हैं। फेफड़े में संक्रमण एक प्रकार का निमोनिया है। एम्स दिल्ली के लंग्स डिपार्टमेंट के एचओडी से बात हुई है। फिलहाल लालू को बाहर भेजने की कोई चर्चा नहीं है। लालू प्रसाद यादव का ब्लड टेस्ट, चेस्ट एक्सरे, इसीजी, इको, कार्डियोग्राफी की जांच की गई है। साथ ही आरटीपीसीआर जांच के लिए सैंपल लिया गया है, जिसका जांच रिपोर्ट शनिवार को आएगी। इसके बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो सकेगी। 

यह खबर भी पढ़े: थाईलैंड ओपन के सेमीफाइनल में पहुंची सात्विकसाईराज रैंकीरेड्डी और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी

 

From around the web