भारत नेपाल के रास्ते को चालू करने को लेकर नैपाली नागरिकों ने उठाई आवाज़

 


बेतिया। भारत के वाल्मीकि नगर से सटे नेपाल के सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों ने आज गंडक बराज के नेपाली क्षेत्र 36 नंबर फाटक पर इकट्ठा होकर नेपाल एपीएफ , और नेपाली पुलिस से गंडक बराज के रास्ते भारतीय क्षेत्र से आवागमन शुरू करने की मांग की है। सैकड़ों की संख्या में नेपाली नागरिक जिसमें महिलाएं और पुरुष दोनों शामिल रहे ने घण्टों प्रदर्शन और नारेबाजी करते हुए तुरंत इंडो-नेपाल के रास्ते को चालू करने की मांग की। इस बाबत नेपाली नागरिकों ने बातचीत में कहा कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के कारण मार्च महीने से गंडक बराज के रास्ते दोनों देशों की पहल पर आवागमन को बंद कर दिया गया था। इस  कारण दोनों देशों के बीच बेटी रोटी का संबंध होने के कारण उनकी जीवन चर्या प्रभावित हो गई है।

इस बाबत नेपाल एपीएफ के निरीक्षक संतोष थापा ने बताया कि ग्रामीणों की मांग को वरिय अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। दिशा-निर्देश प्राप्त होते हीं आगे की कार्रवाई की जाएगी। प्रदर्शनकारियों ने बताया कि अगर आवागमन को ग्रामीणों के हित में बहाल नहीं किया गया तो आंदोलन को और तेज  किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि पड़ोसी देश नेपाल के तराई क्षेत्र के कई गांव के सैकड़ों ग्रामीण अपनी निजी जरूरतों के लिए और स्वास्थ्य सेवा के लिए भारतीय क्षेत्र पर पूरी तरह निर्भर है ।आवागमन बंद होने से भारतीय क्षेत्र में उनका प्रवेश बंद हो गया है ।वहीं भारतीय क्षेत्र के सैकड़ों मजदूर ,व्यवसायी नेपाली क्षेत्र में जाकर रोजी रोजगार के माध्यम से अपने परिवार का भरण पोषण करते थे उन सब की जीविका पर आवागमन बंद होने से प्रभाव पड़ा है।

यह खबर भी पढ़े: 'रैली, धरना, प्रदर्शन और बलात्कार, देख आज की बानगी भरे पड़े अखबार'

From around the web