मारपीट में अलग-अलग 8 के विरूद्ध एफआईआर

 


बेतिया। विधानसभा चुनाव बीतने के साथ ही ही गांवों में गुटबाजी शुरू हो गई है।इस तरह के मामले बलथर थाने के सीमावर्ती गांव जगीराहां में देखने को मिला है। मंगलवार की शाम बलथर थानाध्यक्ष प्रकाश कुमार ने जगीराहां गांव निवासी अभिमन्नू सिंह व रामचन्द्र साह को शराब के नशे में हंगामा व मारपीट करने की सूचना पर गिरफ्तार कर जेल भेजा था।जिसके बाद इस घटना को चुनाव में वोट देने व नहीं देने से जोड़कर देखे जाने लगा।

इसमें तीन दल के समर्थक अपनी रोटी सेकने लगे थे।एक पक्ष रामचन्द्र साह को वोट नही देने को लेकर मारपीट कर जख्मी करने का आरोप लगाने लगा था।इस मामले की लिखित प्रमाण तो सामने नही आया। वहीं दो दल गिरफ्तार दोनों के परिजनों को सामने कर दो अलग- अलग एफआईआर दर्ज कराया है। जगीराहां गांव निवासी रूपेश सिंह ने थाना को दिये आवेदन में गाली देने से मना करने के बाद ईट-पत्थर से ट्रैक्टर,पम्पसेट व बाइक को क्षतिग्रस्त करने तथा बड़े भाई मनू सिंह रोकने गये तो उनके साथ मारपीट कर पॉकेट से नगद व गले से सोने का चेन निकालने का आरोप लगाया है तथा गांव के ही देवकांत साह,रामाकांत साह,पप्पू सिंह,बब्लू सिंह,बली साह व सोनालाल साह को आरोपित किया है।

दूसरी ओर रामचन्द्र साह की पत्नी प्रभावती देवी के आवेदन पर दूसरा मामला पुलिस ने दर्ज किया है।जिसमें गांव के ही अभिमन्नू सिंह व प्रदीप सिंह को आरोपित किया है।इसमें आवेदिका ने कहा है कि आरोपी शराब के नशे में घर में घूसकर जातिसूचक शब्द का प्रयोग करते हुए बोले कि चुनाव में कहने के बाद दूसरे पार्टी को वोट दिया।तुम लोगों को गांव में रहने नही देंगे।घर जला देंगे।घर में रखा गया खाना छीट देने व पति के जेब से नगद रूपये निकालने का आरोप लगाया है।

यह खबर भी पढ़े: देश के 3 प्रमुख वैक्सीन केन्द्रों का प्रधानमंत्री ने किया दौरा, कोरोना वैक्सीन के निर्माण के प्रगति के बारे में ली जानकारी

From around the web