शनिवार, 28 नवंबर, आज का पवित्र लेख

 


"अपने ललाट को विश्वासपात्रता और निष्ठा के पुष्पहारों से, हृदय को ईश्वर के डर रूपी परिधान से, जिह्वा को पूर्ण सत्यनिष्ठा से और शरीर को शिष्टाचार की पोशाक से शोभायमान करो।"

                     - बहाउल्लाह की लेखनी से 

 

बहाई धर्म एक नया और स्वतंत्र धर्म है,जिसकी उत्पत्ति 1844 में ईरान से हुई। बहाई धर्म के अनुसार बाब और बहाउल्लाह इस युग के ईश्वरीय अवतार है। बहाई धर्म का उद्देश्य मानवजाति के बीच एकता स्थापित करना है। अधिक जानकारी के लिए Baha'i.org पर देखें।

आप यदि रोज़ का पवित्र लेख चाहते है तो अपना व्हाट्सएप्प नंबर जोड़ने के लिए क्लिक करे: पवित्र लेख

यह खबर भी पढ़े: 27 नवंबर, आज का पवित्र लेख

 

From around the web