सफाईकर्मियों को बड़ी राहत, अब रोबोट्स के जरिए होगी नालों की सफाई

 


विशाखापत्तनम। ग्रेटर विशाखापत्तनम म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन नालों की सफाई हेतु अब रोबोटिक मशीन खरीदने की तैयारी में है। इन मशीनों का उपयोग तकनीक रूप से नालों की सफाई और ड्रेनेज सिस्टम को दुरुस्त रखने हेतु किया जाएगा। 

इन रोबोटिक मशीनों का दाम बाजार में 80 लाख रुपए बताया जाता है। इन मशीनों में आधुनिक फीचर्स प्रदान की गए हैं जिससे सफाई कर्मचारियों को नाले की सफाई करने में आसानी होगी। वहीं, इन मशीनों में कैमरा सेटअप भी किया गया है, जिससे ब्लॉकेज का मालूम किया जा पाएगा। इसके अलावा कंट्रोल पैनल की सहायता से नाले की गहराई का भी पता लगाया जा पाएगा। 

सुपरिटेंडेंट ऑफिसर वेणु गोपाल की माने तो सैनिटरी वर्कर्स हेतु आधुनिक फीचर्स वाली रोबोटिक मशीन काफी काम की वस्तु है। इससे उनके काम करने के ढंग से परिवर्तन तो आएगा ही, साथ ही उन्हें काम करने में सरलता भी मिलेगी। उन्होंने आगे कहा, "मशीन को रिमोट के सहारे ऑपरेट किया जा सकता है। यह बहुत आसान सा तरीका है और इससे ब्लॉकेज का भी आसानी से पता लगाया जा सकता है। इसके अलावा, इन मशीनों में अलार्मिंग फैसिलिटी भी दी गई है।"

GVMC का उद्देश्य नालों को एक दूसरे से इंटरकनेक्ट करना एवं शहर के ड्रेनेज सिस्टम को मजबूत रखना है। इससे वर्षा के मौसम में सड़कों पर होने वाले जल जमाव की समस्या से भी राहत मिलेगी। इसके सिवा म्युनिसिपल कारपोरेशन सफाईमित्र सुरक्षा चैलेंज में भी पार्टिसिपेट कर रहा है, जिसके तहत शहर को साफ रखने पर 52 करोड़ की इनामी राशि प्रदान की जाएगी। यह चैलेंज मिनिट्री ऑफ हाउसिंग एंड अर्बन अफेर्स की तरफ से दिया गया है। 

यह खबर भी पढ़े: PM मोदी ने मणिपुर, त्रिपुरा, मेघालय के स्थापना दिवस पर लोगों को दी बधाई और शुभकामनाएं

From around the web